सफरनामा नया एक बनाने दो मुझे..

हर रोज़ तो नहीं लगते इन अरमानो को पंख,
लगें हैं आज तो उड़ जाने  दो इन्हे।
हर रोज़ नहीं दहकते , शोले ख्यालों के,
जो दहकें हैं आज तो, दहक़ जाने दो इन्हे।
                                       ये शमा उम्मीदों की रोज़ नहीं धधकती,
                                        जो धधकी है आज तो, शाम रोशन कर जाने दो इन्हे .
                                        रोज़ नहीं आते परवाने, लेकर अपनी दास्ताँ,
                                        जो आएं हैं आज तो, कहानी कह जाने दो इन्हें।
यूँ तो मंसूबे मेरे सदा से ही  नेक हैं,
पर बहकें हैं आज तो, बहक  जाने दो इन्हे।
सदा ही  शर्म का नकाब रहा है चहरे पर,
शर्म से बेशर्मी तक गिर जाने  दो, इन्हें।
                                                 छोटी सी ज़िन्दगी है, और दो पल का है चैन नहीं,
                                                  आज चैन से बेचैनी को ठग लेने दो मुझे।
                                                  राह दो पल को भटक भी जाएं तो, कौन ताके ये रहगुज़र हे!
                                                   इन दिलफेंक गलियारों में, भटक जाने दो मुझे।
              सफरनामा नया एक बनाने दो मुझे,
             ज़िन्दगी का सफर सजाने दो मुझे।
             हक़ है मेरा अपनी इस ज़िन्दगी ,
               थोड़ा थो हक़ जताने दो मुझे।
                                       सफरनामा नया एक बनाने दो मुझे,
                                        ज़िन्दगी का सफर सजाने दो मुझे।                                         

Comments

Popular posts from this blog

Soul to soul connection

I regret.. i regret about it everyday 💔

How to migrate from Bloggers to WordPress for free?