कही अनकही

ज़रूरी नहीं की ज़िन्दगी हमेशा वैसे ही चले जैसे  हम सोचते हैं,और यही ज़िन्दगी  है. हर पल एक नए रोमांच से भरी. आप नहीं जानते की आगे क्या होगा, शायद आपको एक पल में वो परियों की दुनिआ मिल जाए और शायद एक पल में सब कुछ बदल जाए. यहाँ से वहां तक फर्क बस नज़रिये का है. एक बेहतर नजरिया एक बेहतर कल को जन्म देगा। खुद पर विश्वास रखिये ऊपर वाले के बाद, क्यूंकि यही दो लोग हैं जो अंत तक आप का साथ निभाएंगे। जिनमे से एक, आप खुद हैं।  खुद को ढूंढ लो शायद कहीं भटक से गए हो, मुश्किल है पर नामुमकिन नहीं। 

Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

Soul to soul connection

How to migrate from Bloggers to WordPress for free?

I regret.. i regret about it everyday 💔