अभी समय है मांग लो माफ़ी।

जो धर्म  की मला जापेंगे और धर्म के नाम से कांपेंगे,
वे बुज़दिल, झूठे, धर्म के प्रेमी, स्त्री का दर्द क्या भापेंगे।
बस झूठे बोल अलापेंगे,झूठे पैमाने आंकेगे।
                                      यह विकट  दृश्य है  देखो केसा ,
                                      की मन में ज्वाला सी लगती है।
                                      दुर्गा को पूजे घर घर में ,
                                      और अर्थी कन्या की जलती है।
कोई जन्म लेते ही  सांस रोक दे,
तो कोई उम्र भर, कैद कर रखता है।
अन्याय करे संग  जीवन भर,
पर,काली के प्रकोप से डरता है।
                                       मुंह पर बोल हैं कितने मीठे ,
                                       मन में लेकिन बस मैल है।
                                      ये देख दिखावा है दुनिआ का,
                                      ये  जुमले वादे खेल हैं।

     मेरे इस देश की धरती का,
     बस इतना लेखा जोखा है।
     की स्त्री के त्याग और प्रेम को इसने,
    सदा कमज़ोरी मान ही देखा है।
                                   ये भीड़ ही  इतनी बेगैरत है ,
                                    की माँ का मान भी रख सके ना।
                                    हम तुम को क्या बख्शेंगे ये ,
                                    जो सीता को भी बक्श सके ना।
झूठे है जग के वादे सारे की आगे तुझे बढ़ाएंगे ,
बोझ समझ कर पाला है हमको,
 पर अब आगे, नहीं सताएंगे।
  जो दूर ही  जाना है हमको तो ,
   तो लौट के अब न आएँगे।
                                     कितना पाप करोगे जग में,
                                     एक ऐसा वक़्त भी आएगा।
                                     जब पाप भडेगा दुनिआ में और ,
                                     ये घड़ा टूट ही  जाएगा।
जो रहा यही मंज़र कल भी तो ,
वो सदा के लिए मिट जाएंगी।
तुम ही सोचो इस कलाई पर फिर ,
राखी कैसे आएंगी।
                      जो अब जुल्म न रोका तो फिर सोचो ,
                      कैसे ये कर्ज़ चुकाओगे।
                      दिन भर थक कर काट भी लोगे
                      पर जब रात पर घर पर आओगे,
                      इंतज़ार में खुद के घर पर देखो,
                      फिर किसे तुम पाओगे ?
                                                       ये दुनिआ धोके देगी तुमको,
                                                       और जब इस जग से, हार तुम जाओगे।
                                                        वो लाड प्रेम और माँ की ममता ,
                                                         कहो कहाँ से लाओगे।
वो सर पर प्रेम से हाथ कहो फिर,
यूँही कभी फेरेगा कौन।
जीवन भर और सात जन्म का ,
वादा तुमको देगा कौन।
                           अभी समय है देर न कर जा,
                           मांग ले माफ़ी जुर्मों की।
                           ममता उसके खून में है वो,
                           वो हाथ पकड़ कर रो देगी।
                           वो हाथ पकड़ कर रो देगी...
                   
                                     
                                      

Comments

  1. Nice... you have good flair to write and express. keep it up.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thank you so much sir for appreciation. :)

      Delete

Post a Comment

Popular posts from this blog

Soul to soul connection

I regret.. i regret about it everyday 💔

How to migrate from Bloggers to WordPress for free?